Sultan Ahmed fought for united India risking his own life

Question: What is the difference between India and other nations?  Answer: While other nations of the world construct memorials in

Read more

अली अशरफ़ उर्फ़ ज्ञान चंद, भारत का एक एक इंक़लाबी रहनुमा

  1918 में अली अशरफ़ की पैदाइश जिस वक़्त हुई, उस वक़्त रूस में क्रांति हो चुकी थी, और उसका

Read more

अल्लामा जमील मज़हरी – एक अज़ीम फ़नकार जिसे अंग्रेज़ों ने जेल की सलाख़ों के पीछे रखा।

  जमील मज़हरी का असल नाम सैयद काज़िम अली था। वालिद का नाम ख़ुर्शीद हसनैन था। उनकी पैदाइश सितम्बर 1904

Read more

पटना की हिंदी पत्रकारिता में पाटलिपुत्र का योगदान

  बांकीपुर में संपन्न भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के 27 वें अधिवेशन ने बिहार के राजनैतिक जीवन में उथल-पुथल मचा दी

Read more

हिन्दी के निर्माण में बिहार बन्धु प्रेस का योगदान

  सन् 1846 ईस्वी के पूर्व बिहार में कहीं भी मुद्रणालय की नींव नहीं पड़ी थी। बैप्टिस्ट मिशन के अधिकारियों

Read more

जब पटना में हुई जातीय जनगणना!

  ईस्ट इंडिया कंपनी ने 1815 से अपने आधिपत्य के प्रदेशों की विस्तृत जानकारी के लिए गज़ेटियर की एक श्रृंखला

Read more

अंजुमन ख़ुद्दाम ए तिब, 1927 में पटना के तिब्बी कॉलेज में बना छात्रों का संगठन

भारत में पहला सरकारी यूनानी कॉलेज पटना में एक लम्बे आंदोलन के बाद गवर्न्मेंट तिब्बी कॉलेज, पटना के रूप में

Read more

अहमद हुसैन : एक शिक्षक जो माँ कि ख़्वाहिश पूरा करने के लिए बने कलेक्टर

अहमद हुसैन की पैदाइश 1886 को पटना ज़िला के नेवरा में हुई थी। शुरुआती तालीम घर पर हासिल की। अपने

Read more

अल्लाजिलाई ~ जिसकी मौत ने अज़ीमाबाद के लोगों को मर्माहत कर दिया।

बिहार के पटना के पास मौजूद सबलपुर के इस क़ब्र के बारे में वहाँ के लोग भी बहुत कम जानते

Read more

Nawab Syed Mohammad Hassan Khan ‘Rashki’ : 200 years and a legacy concealed.

  As end of the 1700s approached, Azeemabad became empty of the first generation Urdu poets, such as Ali Ibrahim

Read more

पाकिस्तान में बैठ कर जीवन भर बिहार के एक क़स्बे को याद करने वाले मोईन अरवली

मोईनउद्दीन अहमद की पैदाइश 30 शाबान 1339 हिजरी यानी 1921 को बिहार के अरवल क़स्बे में हुआ था, उस समय

Read more

जुर्माना अदा करने की बात पर जब बेगम हसन इमाम ने जज से कहा : क्या अंग्रेज़ी क़ानून इतना ही मज़बूत है की कोई पैसा दे कर छूट जाए ?

वो दौर 1930 का था जब बेगम हसन इमाम अपने शौहर के कंधे से कंधा मिला कर अंग्रेज़ो की मुख़ाल्फ़त

Read more
Translate »