Heritage Times

Exploring lesser known History

Education

BiharEducation

डॉक्टर ज़ाकिर हुसैन, 20वीं सदी का सबसे बड़ा नायक

1926 के दौर में जब जामिया मिल्लिया इस्लामिया बंद होने के हालात पर पहुँच गई तो ज़ाकिर हुसैन ने कहा “मैं और मेरे कुछ साथी जामिया की ख़िदमत के लिए अपनी ज़िन्दगी वक़्फ़ करने के लिए तैयार हैं. हमारे आने तक जामिया को बंद न होने दिया जाए.” जबकि उस वक़्त वो जर्मनी में पीएचडी कर रहे थे।

Read More
Education

बिहार में दर्जनों आधुनिक शिक्षण संस्थान खोलने वाले सैयद विलायत अली ख़ान

  नवाब बहादुर सैयद विलायत अली ख़ान का जन्म 23 सितम्बर 1818 को पटना के एक बड़े बैंकर ख़ानदान में

Read More
BiharEducation

सैयद हसन, जिन्होंने बिहार के पिछड़ों को पढ़ाने के लिए अपना जीवन वक़्फ़ कर दिया।

पर उनकी तरबियत डॉक्टर ज़ाकिर हुसैन ने की थी, जिनके पास वतन से दूर रह कई बड़े काम अंजाम देने के मौक़े थे, पर उन्होंने जर्मनी से पढ़ाई मुकम्मल करने के बाद बंद होने की कागार पर पहुँच चुके जामिया मिलिया इस्लामिया को सम्भालने भारत आ गए, वैसे सैयद हसन भी अमेरिका में रहते हुवे कई भारतीय छात्रों की पढ़ाई में मदद करते रहे और 1965 वापस भारत आ गए।

Read More
EducationWomen

फ़ातिमा शेख़ ~ लड़कियों के लिए स्कूल खोलने वाली पहली भारतीय महिला

मुम्बई प्रेसीडेंसी में लड़कियों के स्कूल 1827 से हैं, पर अधिकतर मिशनरियों के थे, आम हिंदुस्तानी जिसमें हिंदू और मुसलमान

Read More
BiharEducationOpinion

Remembering Syed Ahmad, eminent economist and Urdu lover

October 30 is the first death anniversary of noted economist, former head and chairman of the Department of Economics at McMaster University, Canada, Prof Syed Ahmad. An alumnus of Jamia Millia, Patna University, Aligarh Muslim University and London School of Economics, Ahmad taught at universities in Aligarh, Khartoum (Sudan), Kent (England) and McMaster (Canada), was visiting professor at many other institutions and has left a legion of students and admirers across the globe.

Read More
Educationfeatured postsWomen

When Sheikh Abdullah (Papa Mian) wrote poem for his daughter, Khurshid Jahan

Sheikh Abdullah, founder of Women’s College in Aligarh, and Begum Waheed Jahan had seven children, five daughters and two sons. Begum Khurshid Jahan, born in 1918, was the youngest daughter.

When she was a kid, there was a rumour that beggars with long beards kidnapped the children and would sell them away. Therefore, Begum Khurshid, when four year old, used to get terrified at the mere sight of any man with a long beard. 

Read More
EducationWomen

दुर्गाबाई देशमुख : बीएचयू में महिलाओं के अनुभव

  Shubhneet Kaushik  प्रसिद्ध स्वतन्त्रता सेनानी दुर्गाबाई देशमुख बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी के महिला महाविद्यालय की छात्रा रहीं। वर्ष 1934-36 के

Read More
EducationFreedom MovementMedicine

Hakim Ajmal Khan: The Visionary behind India’s First Female Midwifery School and Hospital

Hakim Ajmal Khan supplemented the Tibbia School by opening a Female Midwifery School and Hospital by getting it formally inaugurated by the wife of the Governor of Punjab, Lady Dane on 13 January 1909. It was a radical step taken by Hakim Saheb towards the professional courses in the direction of female education.

Read More