जब 80 साल के बाद, पहली बार लाल क़िले में पढ़ी गई नमाज़..॥

दिल्ली से निकलने वाले द डेली अंसारी के 20 नवम्बर 1945 के ख़बर के अनुसार लाल क़िले में मौलाना अहमद

Read more

THE UNSUNG PHILANTHROPIST OF INDIA, HAJI MAHOMMED MOHSIN

  Haji Mahommed Mohsin, a philanthropist, with scholarly zeal and a heart so big it could feed the entire town’s

Read more

सच्चिदानंद सिन्हा : एक जन्मजात चक्रवर्ती

दसवीं की हिंदी की किताब में जगदीश चंद्र माथुर का एक पाठ पढ़ना होता था। शीर्षक था-‘एक जन्मजात चक्रवर्ती’। इस

Read more

डॉक्टर मुहम्मद इसहाक़ – विज्ञान का वो छात्र जिसने भारत में फ़ारसी भाषा को ज़िंदा कर दिया।

डॉक्टर मुहम्मद इसहाक़ आबाई तौर पर बिहार के आरा के रहने वाले थे। उनके वालिद का नाम अब्दुर रहीम था,

Read more

नेताजी सुभाष चंद्र बोस की आज़ाद हिंद फ़ौज में महिलाओं का योगदान

नेताजी सुभाष चंद्र बोस – भारत के स्वाधीनता संग्राम का वो सिपाही जिसने ICS की नौकरी को देशसेवा के लिए

Read more

Why did Subhas Chandra Bose feel the need to acknowledge Emperor Bahadur Shah Zafar?

On the occasion of the birthday of Emperor Bahadur Shah Zafar, the last ruler of the Mughal Dynasty, let us

Read more

Ameena Mustafa – The first president of trained public health nurse association of Kerala

Ameena Mustafa was born in May 19, 1928. After completion of S.S.L.C, Ameena attained a degree in Nursing from Madras.

Read more

Sultan Ahmed fought for united India risking his own life

Question: What is the difference between India and other nations?  Answer: While other nations of the world construct memorials in

Read more

जब डॉक्टर फ़रीदी और पेरियार ने नारा दिया “अक़लियतो का नारा हिंदुस्तान हमारा”

    जब सर्वप्रथम पेरियार उत्तर प्रदेश लखनऊ आये! [दो दिवसीय सम्मेलन की डिटेल] आल इण्डिया शेडूलड कास्ट, मायनोरिटीज़, बैकवर्ड

Read more

अरवल नगर परिषद अध्यक्ष के लिए रोज़ी नाज़ का नामांकन और शाह परिवार का दोहराता इतिहास

  बिहार के अरवल नगर परिषद अध्यक्ष पद की उम्मीदवार रोज़ी नाज़ (पति शाह इमरान अहमद) ने अपना नामांकन दाख़िल

Read more

जब मुज़फ़्फ़रपुर में एक युरोपियन क्लब के मुक़ाबले में खुला मुस्लिम क्लब

युरोपियन लोगों ने बिहार के मुज़फ़्फ़रपुर में एक युरोपियन क्लब 1885 में क़ायम किया, जिसमें किसी भी भारतीय का दाख़िल

Read more
Translate »